fbpx
खबरमध्यप्रदेश

दुर्लभ कश्यप गैंग के गुर्गे ने युवकों को पीटा,बाईक नदी में फेंकी

Written by :- vipin vishwakarma

उज्जैन में एक बार फिर अपराधी बेखौफ हैं जहां शिप्रा नदी के पास जेल से छूटकर आये एक युवक ने आपने साथियों के संग मिलकर 2 युवकों को बुरी तरह से पीटा जिसकी वजह से एक युवक वहीं गिर पड़ा, जबकि दूसरे को दौड़ा-दौड़ाकर मारा। हमलावर रॉड, लाठी और डंडे लेकर टूट पड़े। वहीँ युवक की बाइक भी नदी में फेंक दी। हमला कराने वाला मुख्य आरोपी पीड़ित युवक का दोस्त है। और उसका दुर्लभ कश्यप गैंग से भी कनेक्शन जुड़ चुका है। वह हत्या के केस में इसी महीने बरी हुआ है। इस मर्डर केस में दुर्लभ भी आरोपी था। दुर्लभ की 2020 में हत्या हो चुकी है।

झगड़ा मकान पर कब्जे को लेकर है। घटना रविवार की बताई जा रही है। इसका VIDEO सामने आने पर पुलिस ने 5 हमलावरों को गिरफ्तार किया है। नीलगंगा पुलिस ने बताया कि गोविंद माली और उसके दोस्त विजय बरगुंडा को घेरकर हमला किया गया है। पीड़ित गोविंद गऊघाट पाले के पास रहने वाली बहन से मिलने आया था। लौटते समय वहीं के रहने वाले राहुल माली ने 8-10 साथियों के साथ गोविंद और उसके साथी विजय को घेर लिया। गोविंद पर रॉड से कई वार किए। इसमें वह गंभीर घायल हो गया। उसे पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया। गोविंद के साथी ने भागकर अपनी जान बचाई। नीलगंगा थाना प्रभारी तरुण कुरील ने बताया कि 5 हमलावरों के खिलाफ नामजद केस दर्ज कर लिया है। नदी में फेंकी बाइक भी निकाल ली है।

हमलावर और घायल दोस्त हैं


घायल गोविंद और हमलावर राहुल पहले दोस्त हैं। गोविंद ने साल 2018 में नीलगंगा कलाली के बाहर एक व्यक्ति की हत्या की थी। बताते हैं कि इसमें राहुल भी सहयोगी रहा। एक साल पहले ही गोविंद बरी हुआ। गोविंद का आरोप है कि राहुल ने उसके मकान पर कब्जा कर लिया। नीलगंगा पुलिस को कब्जे और रुपए की झगड़े की बात भी पता चली है, नीलगंगा पुलिस ने 5 हमलावरों के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया है। इनमें राहुल माली, शुभम और लक्की शामिल हैं। वीडियो के आधार पर भी पुलिस हमलावरों को चिह्नित कर धरपकड़ में लगी हुई है। हमलावरों ने जिस बर्बरता से हमला किया, उसे लेकर पुलिस हमलावरों का जुलूस भी निकालेगी। अधिकारियों ने कहा कि इनका आपराधिक रिकॉर्ड चेक करवा रहे हैं।


दुर्लभ गैंग से कनेक्शन

हमले में घायल गोविंद माली ने बताया कि वह शहर के मालीपुरा में सब्जी की दुकान लगाता है। रविवार शाम साथी विजय के साथ घर जा रहा था, तभी शुभम, सुमित, नीलेश, संदीप, भूरा उर्फ राज माली ने राहुल माली के कहने पर हमला किया। राहुल ने मेरे घर पर ढाई महीने से कब्जा कर रखा है। दुर्लभ कश्यप गैंग के 2 बदमाशों को 14 नवंबर को कोर्ट ने जिला अस्पताल में हुई हत्या और हत्या के प्रयास के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने मामले में अभियुक्त राहुल माली और बाबू टायर को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया है। इस केस में दुर्लभ का भी नाम था, लेकिन 2020 में उसकी हत्या हो गई थी।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button