रैन दो जिज्जी, तुमसे न हो पेहे

हैप्पी बर्थ-डे जिज्जी
सचिन चौधरी @बुंदेली बौछार
जिज्जी प्रणाम। उम्मीद है के कुशल हुईयो। सबसे पहले तो आपखों जन्म की बधाई। राम राजा सरकार आपखों लम्बी उमर दें। आप स्वस्थ रओ। 
जिज्जी आज आपके जन्मदिन पे आपसे कछु मन की बात करने। मनो मन की बात को पेटेंट तो मोदी जी और दिल की बात को मम्मा ने करा लओ। सो चल हम ऐंसई कछु कह लें।
जिज्जी जे बताओ के अच्छो खासो प्रवचन छोड़ के आप राजनीति में काये आईं थीं ? अपनो भले करवे या बुंदेलखंड को। जो भी सोच के आईं हों मनो सांची कयें के न तो इत्ते दिनों की राजनीति में आप अपने लाने कछु कर पाईं और जनता खों।
टीकमगढ़, बुंदेलखंड, मध्यप्रदेश और देश की जनता ने आपके मान सम्मान में कोनऊं कसर न छोड़ी, मनो आप हर बेर ओई जनता खों छोड़ चलीं
मध्यप्रदेश की जनता ने आपखों का नईं दओ। विधायक, सांसद, केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री सब कछु तो बनावाओ। मनों आप हर बेर कभऊं खुद तुनक के निकल लीं तो कभऊं आपके तुनकपन को फायदा मम्मा जैसे शुभचिंतकों ने उठा के आपकी राजनीति पे डेंट लगा दओ।
सई में जिज्जी आप इतनी तुनक काये जातीं। शायद ईसे के आप भ्रष्टाचारी नईंया या फिर ईसे के आप खरा खरा बोल देती हों।
मनों राजनीति तो ऐसे लोगों खों बनी ही नईंया। जिज्जी जा राजनीति की दुनिया जा महफिल तुमाये काम की नईंया।
आपके संगे सबसे बड़ी दिक्कत जा है जिज्जी के आप न तो गुस्सा करके जनता को भले कर पाती और अब बढ़ती उमर के संगे गुस्सा कम करके भी कछु न कर पाईं। इतने दिनों से गंगा मैया की सेवा को हल्ला कर रईं थीं जब जिम्मेदारी मिली गंगा जी खों स्वच्छ रखवे की सो उते भी मामला फुस्स।
मंत्री तो आप हों मनो सई कहें तो बस कहवे की।
हां अब जरा बुंदेलखंड की बात भी होई जाए। चुनाव जीते के बाद 3 साल में बुंदेलखंड राज्य बनवाये को वादा करे तो जिज्जी आपने तो? का भओ। वादा तो खैर नेताओं के जुमला होत हमें पतो है। मनों आप ? आप तो बुंदेलखंड की शेरनी आओ। बुंदेली में एक कहावत है, जो कै दई सो कै दई। हमें पतो है के बुंदेलखंड बनवाये की आपकी बसकी नईंया। मनो कछु कोशिश करके हम लोगन के कलेजे पे ठंडक तो पहुंचा सकत तीं आप।
जिज्जी हम बुंदेलखंडी सच्चे भैया हैं। मम्मा जैसे मौका पे दगा देवे वारे भैया नोईं।
न मानो तो सुन लो मध्यप्रदेश में आपको हश्र देखवे के बाद भी आपखों चरखारी से जिताओ। चरखारी में आपके विकास को हश्र देखवे के बाद भी आपखों झांसी से जिताओ। अब भी आपने कछु नईं करे फिर भी आपखों बुंदेलखंड की कोनऊं भी सीट से जिताहें।
लेकिन आप तो कभऊं सोच के देखो के आप अपनी प्रतिभा से न्याय कर पाईं का? आप बुंदेलखंड और मध्यप्रदेश के प्यार और सम्मान कर्ज चुका पाईं का।
कल सोचियो
आज तो जन्मदिन मनाओ जिज्जी। हैप्पी बड्डे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *