Home Hindi चित्रकूट: जल मंत्री के आगमन पर, कोविड मृतकों की याद में रामायण...

चित्रकूट: जल मंत्री के आगमन पर, कोविड मृतकों की याद में रामायण कालीन पौधों का होगा रोपण

172
0
SHARE

चित्रकूट (बुंदेली बौछार) : जल शक्ति मंत्री केंद्र व प्रदेश सरकार के आगमन को लेकर सिद्धपुर वन ब्लॉक में पौधरोपण की तैयारियों का डीएम ने निरीक्षण किया। उन्होंने विभागीय अधिकारियो को कमियों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। चार जुलाई को जल शक्ति मंत्री केंद्र सरकार गजेंद्र सिंह शेखावत व जल सक्ति मंत्री सिचाई एवं जल संसाधन मंत्री डॉ महेंद्र सिंह के आगमन को लेकर शुक्रवार को डीएम शुभ्रांत शुक्ल ने सिद्धपुर वन ब्लॉक में जाकर निरीक्षण किया। जहा प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश को निर्देश दिए कि जुलाई माह में पौधरोपण कार्यक्रम जन आंदोलन के अंतर्गत रामायण कालीन वनस्पतियों का रोपण वृहद स्तर पर किया जाएगा। बाल्मीकि रामायण में विभिन्न वृक्षों का उल्लेख किया गया है। इन वृक्षों में कई वृक्ष वर्तमान समय में तो प्रदेश में नहीं पाए जाते हैं। अन्य वृक्षों की संख्या कम हो गई है चंदन व रक्त चंदन जैसी प्रजातियां दक्षिण भारत तक सीमित हो गई है। बाल्मीकि रामायण में उल्लिखित वृक्ष प्रजातियों में वर्तमान समय में जलवायु मृदा भौगोलिक परिस्थितियों के अनुकूल 30 प्रजातियों के पौधों का रोपण किया जाना है। वृक्षारोपण हेतु चयनित रामायण कालीन 30 वृक्षों का सामान वनस्पतिक नाम है। जिसमें साल, आम, अशोक, कल्पवृक्ष, बरगद, महुआ ,कटहल ,असन कदम्ब, अर्जुन, छितवन, जामुन, अनार, बेल ,खैर, पलाश ,बहेड़ा ,पीपल ,आंवला, नीम, शीशम ,बांस ,बेर, कचनार ,चिलबिल, सेमल ,कनेर, सिरस, अमलतास व बड़हल शामिल है। बताया कि वन ब्लॉक सिद्धपुर में 17500 पौध रोपण किए जाएंगे जिसमें स्मृति वन में कोविड मृतकों की याद में, औषधि वाटिका, रामायण वाटिका, राम वन गमन वाटिका बनाया गया है। जिसमें यह पौधे रोपित किए जाएंगे। डीएम ने प्रभागीय वनाधिकारी को निर्देश दिए की सभी व्यवस्थाएं पूर्व में ही सुनिश्चित कर ले चार जुलाई को होने वाले कार्यक्रम के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या न हो। निरीक्षण के दौरान अपर जिलाधिकारी जी पी सिंह, उप वनाधिकारी आरके दीक्षित सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

✍️पुष्पराज कश्यप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here