Home Hindi बरुआसागर: सेवानिवृत्त प्राथमिक शिक्षक कल्याण परिषद झांसी का वार्षिक अधिवेशन सम्पन्न

बरुआसागर: सेवानिवृत्त प्राथमिक शिक्षक कल्याण परिषद झांसी का वार्षिक अधिवेशन सम्पन्न

280
0
SHARE

उत्तर प्रदेश सेवानिवृत्त प्राथमिक शिक्षक कल्याण परिषद झांसी का वार्षिक अधिवेशन एवं शिक्षक सम्मान समारोह डाइट बरुआसागर में संपन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता शंभू दयाल यादव ने की। प्रांतीय अध्यक्ष सत्यदेव सिंह व महासचिव गुलाब चंद तिवारी के अतिथ्य मे शिक्षक सम्मान समारोह एवं वार्षिक अधिवेशन संपन्न हुआ। सर्वप्रथम मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन अध्यक्ष व महामंत्री द्वारा संपन्न हुआ  कार्यक्रम के प्रारम्भ में सरस्वती वंदना कालका प्रसाद प्रजापति द्वारा की गई स्वागत भाषण व वार्षिक आख्या शंभू दयाल यादव द्वारा प्रस्तुत की गई, वार्षिक आय व्यय विवरण आख्या आशाराम रायकवार कोषाध्यक्ष द्वारा प्रस्तुत किया गया। तत्पश्चात सेवानिवृत्त बुजुर्ग आदर्श शिक्षकों को स्मृति चिन्ह एवं शॉल श्रीफल भेट कर सम्मानित किया गया। इसके बाद जिला कार्यकारिणी का गठन निर्वाचन कार्य संपन्न हुआ जिसमें निर्वाचन अधिकारी, पर्यवेक्षक द्वारा निर्वाचन की नियमानुसार प्रक्रिया कर अध्यक्ष, मंत्री, कोषाध्यक्ष व अन्य पदों का निर्वाचन सम्पन्न कराया गया। जिसमें प्रस्तावक व समर्थकों ने अध्यक्ष पद हेतु लखन लाल सक्सेना को निर्विरोध चुन लिया, मंत्री पद हेतु दशरथ रजक निर्विरोध चुने गए व कोषाध्यक्ष पद हेतु आशाराम रायकवार निर्विरोध चुने गए। वरिष्ठ उपाध्यक्ष दीन खां मंसूरी राष्ट्रपति पुरस्कृत शिक्षक को चुना गया, उपाध्यक्ष पद पर लाल दीवान यादव व श्रीमती लीला देवी को महिला उपाध्यक्ष चुना गया। उत्तर प्रदेश अध्यक्ष सत्यदेव सिंह व महासचिव गुलाबचंद तिवारी द्वारा जिला कार्यकारिणी का गठन होने के पश्चात शपथ ग्रहण संपन्न कराई गई। अधिवेशन में उपस्थित सेवानिवृत्त सभी शिक्षकों का बैज अलंकरण कर सम्मान किया गया। अधिवेशन में सभी ब्लाकों के अध्यक्ष व मंत्री उपस्थित रहे। बड़ागांव ब्लॉक अध्यक्ष बृज किशोर यादव व बैजनाथ कुशवाहा, बंगरा ब्लॉक से कल्याण सिंह घोष, घनश्याम दास आर्य, राम चरण वर्मा, तुलसीदास श्रीवास, भगवानदास राजपूत, लालाराम अहिरवार, राम प्रसाद श्रीवास्तव, चंद्रभान यादव, राम नारायण साहू, कैलाश नारायण मिश्र, दयाराम रायकवार, भारत सिंह सेंगर, बामोर से धनीराम कुशवाहा, दीन दयाल कुशवाहा, मूलचंद नापित, गिरजा शंकर चतुर्वेदी, जगदीश चंद्र पांचाल बेंदा, लल्ली राम सेन, मलखान सिंह, कालिका प्रसाद, हरिमोहन रेजा, दयाराम अहिरवार, रामेश्वर प्रसाद सेन, स्वामी प्रसाद आंगिरा मौजूद रहे। संचालन लखन लाल सक्सेना एवं आभार दशरथ रजक ने व्यक्त  किया।

✍️राजीव बिरथरे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here