Home Hindi बरुआसागर: रक्षाबंधन के पावन पर्व पर क्रांतिवीर सेवक संघ ने वृक्ष संरक्षा...

बरुआसागर: रक्षाबंधन के पावन पर्व पर क्रांतिवीर सेवक संघ ने वृक्ष संरक्षा दिवस मनाया

172
0
SHARE

वृक्षों की संरक्षा, वास्तव में मानव जीवन की सुरक्षा है- डाॅ सुनील तिवारी

बरूआसागर (झांसी)। बुन्देलखण्ड के कश्मीर कहे जाने वाले बरूआसागर में क्रांतिवीर सेवक संघ के संयोजक पं दिनेश मिश्रा के संयोजन में चन्द्रशेखर आजाद और बाल गंगाधर तिलक की जयन्ती 23 जुलाई से प्रारम्भ किये गये अनवरत चलने वाले “वृहद वृक्षारोपण” अभियान के तहत, आज रक्षाबंधन के अवसर पर स्वर्गाश्रम झरना पर “वृक्ष संरक्षा दिवस” मनाया गया।


वृक्ष संरक्षा दिवस पर हुई संगोष्ठी सेन्ट्रल यूनीवर्सिटी ऑफ कर्नाटक के पूर्व सीनेटर डाॅ सुनील तिवारी की अध्यक्षता और पं बंगाल के पूर्व मुख्य सचिव डाॅ प्रमोद अग्रवाल के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुई।
संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डाॅ प्रमोद अग्रवाल ने अपने संबोधन में कहा कि सम्पूर्ण बरूआसागर परिक्षेत्र में क्रांतिवीर सेवक संघ ने 23 जुलाई से अनवरत “वृहद वृक्षारोपण” अभियान चलाया है, जिसके अन्तर्गत शिक्षण संस्थानों, शिक्षकों, पत्रकारों , व्यापारियों, वरिष्ठ नागरिकों और फैक्टरियों के माध्यम से खाली और परती जमीनों पर वृक्षारोपण किया जा रहा है जिससे इकोसिस्टम संतुलित होगा।
अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में डाॅ सुनील तिवारी ने कहा कि वृक्ष हमेशा मानव संतति के लिये एक सतत् प्रदाता के रूप में है, जल से लेकर फल तक, में वृक्ष की संचयन से प्रदाता की प्रवृति दृष्टिगोचर होती है, इसीलिये वृक्षों की संरक्षा ही मानव जीवन की सुरक्षा है।
इस अवसर पर डाॅ अशोक यादव, आनन्द बिरथरे, प्रमोद राय, मुकेश साहू, अल्लू सेन, संजीव चौधरी, लक्ष्मी झा, प्रमोद यादव, मनोज माते, डाॅ राजीव पुरोहित, प्यारेलाल रायकवार, पप्पी साहू, संस्कार तिवारी, रिंकू परिहार, टिंकू खेवरिया, लाल जी बिलगैंया, विवेक पुरोहित, सचिन पुरोहित, ठाकुरदास कुशवाहा, संजीव चौबे, अंकुर अलींजा, छोटू पटैरिया आदि मौजूद रहे।
कार्यक्रम का संचालन जयप्रकाश विरथरे द्वारा किया गया। अन्त में कार्यक्रम के संयोजक पं दिनेश मिश्रा ने वृक्षों की संरक्षा के लिये सभी आगुतंकों से संकल्प पत्र भरवाने के उपरांत नगर के विभिन्न स्थानों पर रोपे गये वृक्षों को रक्षासूत्र बांधकर आभार ज्ञापित किया।

✍️राजीव बिरथरे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here