Home Hindi महोबा: पत्रकारो के ऊपर झूठे मुकदमों को लेकर संयुक्त मीडिया क्लब व...

महोबा: पत्रकारो के ऊपर झूठे मुकदमों को लेकर संयुक्त मीडिया क्लब व उत्तर प्रदेश श्रम जीवी पत्रकार संगठन ने एसपी को दिया ज्ञापन

232
0
SHARE

जनपद में पत्रकारों को प्रताड़ित और आये दिन झूठी शिकायतों पर दर्ज हो रहे फर्जी मुकदमों से जनपद के पत्रकारों में आक्रोश व्याप्त है। जिसको लेकर संयुक्त मीडिया क्लब व उत्तरप्रदेश श्रम जीवी पत्रकार संगठन ने एसपी को सामूहिक ज्ञापन देकर पत्रकारो पर दर्ज हुए मुकदमें की निष्पक्ष जांच कराकर मुकदमा वापस किये जाने की मांग की गई।

दरअसल महोबा जनपद में पत्रकारों से संबंधित मामलों में बिना जांच किये झूठी शिकायतों पर दर्ज हो रहे मुकदमों को लेकर जनपद के पत्रकार एकजुट होकर एसपी को पूरे मामले से अवगत कराने पहुंचे। संयुक्त मीडिया क्लब के बुंदेलखंड प्रभारी इरफान पठान की मौजूदगी में जिला अध्यक्ष भगवानदीन यादव के नेतृत्व में संयुक्त मीडिया क्लब व उत्तरप्रदेश श्रमजीवी के एक सैकड़ा पत्रकार इकट्ठा हुए और प्रदर्शन करते हुए एसपी को ज्ञापन सौपा गया जिसमें पूर्व में उत्तरप्रदेश श्रमजीवी के जिलाध्यक्ष जयप्रकाश द्विवेदी व अफसार अहमद पर दर्ज हुए मुकदमें की निष्पक्ष जांच कराकर मुकदमा वापस लिए जाने की मांग की गई। जिसमे पुलिस अधीक्षक ने न्याय का भरोसा दिया है साथ ही उन्होंने कहा कि पत्रकारों ने जुड़ें मामलें अब आने पर जांच के बाद ही आगे की कार्यवाई करने की बात कहीं। इस मौके पर संयुक्त मीडिया क्लब के जिलाध्यक्ष भगवानदीन यादव ने कहा कि महोबा में पत्रकारों के उत्पीड़न व दर्ज फर्जी मुकदमों को लेकर अधिकारियों से वार्ता की गई है यदि जल्द इस मामलों में निष्पक्ष जांच और न्याय नही मिला तो फिर पत्रकार धरना देने के लिए मजबूर हो जायेगें। इस मौके पर संयुक्त मीडिया क्लब कुलपहाड़ तहसील के अध्यक्ष ब्रजेन्द्र द्विवेदी , संगठन मंत्री भरत त्रिपाठी, इस्राईल कुरैशी, रामेंद्र सिंह, जयप्रकाश द्विवेदी, दीपक बाजपेई, अजय अनुरागी, कफील अहमद, शाहनबाज़, अनीस मंसूरी, आशीष अग्रवाल,मनीष चौरसिया , रमेश कुमार, अर्जुन मिश्रा, अभिषेक सिंह,सरफराज, शकील सिद्दीकी, अखिलेश सोनी, विक्रमादित्य सिंह, नीरज, युशूफ खान, रामपाल सिंह, प्रवीण पटेरिया,अफसार अहमद, नितिन नामदेव ,उमाकांत ,कौशलेंद्र, हेमंत गोश्वामी, अतीक अहमद, पवन सोनी, नारायण नायक, सरफराज तकरीबन एक सैकड़ा पत्रकार मौजूद रहे।

✍️भरत त्रिपाठी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here