Home Hindi ललितपुरः आरोपों के घेरे में एसओजी टीम

ललितपुरः आरोपों के घेरे में एसओजी टीम

143
0
SHARE

सदर विधायक, राज्यमंत्री तक पहंुची शिकायतें
सदर विधायक डीआईजी को भी लिख चुके हैं पत्र
ललितपुर। जनपद में संचालित स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) लम्बे समय से अपनी कारगुजारियों के चलते सुर्खियों में है। कभी किसी को चुनाव न लडऩे की धमकी देने, कभी किसी को फर्जी मुकद्दमों में फंसाने और कभी -कभी तो अवैध तरीके से धन की मांग किये जाने की शिकायतें समय-समय पर प्राप्त हुयी हैं। इन शिकायती पत्रों को गंभीरता से संज्ञान लेकर सदर विधायक रामरतन कुशवाहा ने पुलिस उपमहानिरीक्षक झांसी मण्डल को सरकारी लैटर हैड पर एसओजी के प्रति कड़ी वैधानिक कार्यवाही अमल में लाये जाने के लिए पत्र लिखा था, लेकिन कार्यवाही न होने से इस सरकारी लैटरहैड का भी कोई औचित्य नहीं निकला।
मामला संख्या-एक
तहसील तालबेहट के थाना पूराकलां के ग्राम विजयपुरा निवासी जयपाल सिंह पुत्र गनेशजू ने 5 अप्रैल 2021 को सदर विधायक रामरतन कुशवाहा को शिकायती पत्र प्रेषित किया था। पत्र में बताया कि उसका पुत्र राजाभैया ग्राम प्रधानी का चुनाव लडऩा चाहता था। लेकिन गांव के प्रतिद्वंदियों ने पुलिस से सांठगांठ कर झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी। आरोप है कि एसओजी पुलिस के समक्ष जब चुनाव लडऩे की बात कही तो उक्त एसओजी पुलिस ने उसके साथ मारपीट की और 3 अप्रैल 2021 को उसका पुत्र तहसील आया हुआ था, जहां से एसओजी ने उसे पकड़ लिया। पीड़ित ने मामले की जांच कराये जाने की गुहार लगायी।
मामला संख्या-दो
थाना पूराकलां के ग्राम विजयपुरा निवासी बद्रीप्रसाद पुत्र बालमुकुन्द ने भी 6 अप्रैल 2021 को सदर विधायक को प्रेषित शिकायती पत्र में एसओजी पुलिस पर अनैतिक मांग पूरी न करने पर झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाया गया है। पीड़ित ने बताया कि उसका पुत्र मनीष अपनी दुकान पर था। तभी कुछ पुलिस कर्मी आये और पान मसाला के साथ कुछ सामान लिया। जब सामान के पैसे मांगे गये तो उक्त पुलिस कर्मियों ने उसके साथ मारपीट कर दी और जिस गाड़ी से पुलिस कर्मी आये थे, उसी गाड़ी में उसके पुत्र को ले गये। आरोप है कि उसके पुत्र को जबरन कट्टा, असलहा बनाने की बात जबरन कबूल कराते हुये झूठा मामला दर्ज कर दिया। पीड़ित ने बताया कि वह एक किसान है। पीड़ित ने सदर विधायक से मामले की जांच कराते हुये कार्यवाही की मांग उठायी है।
मामला संख्या-तीन
थाना पाली क्षेत्र के ग्राम बंगरिया निवासी कमलेश पुत्र रतनलाल ने श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहरलाल पंथ व सदर विधायक रामरतन कुशवाहा को संयुक्त रूप से एक पत्र प्रेषित करते हुये एसओजी पुलिस पर उसके साथ मारपीट करते हुये पैसा छीनने और जबरन चोरी की बात कबूल करने का दबाव बनाने का आरोप लगाया है। मामले में राज्यमंत्री ने 2 अप्रैल 2021 को एसपी को जांच कर कार्यवाही करने एवं एक सप्ताह में अवगत कराने के निर्देश दिये थे। मामले को लेकर पीड़ित ने बताया कि 1 अप्रैल 2021 को सुबह 11 बजे सादा कपड़े में दो व्यक्ति उसके घर गांव के शिब्बू ग्रामीण को लेकर घर पहुंचे। उक्त दोनों लोग उससे कई जगह वोटर लिस्ट में नाम होने की बात कहते हुये फर्जी वोट डालने की बात कहने लगे। इतना ही नहीं उक्त लोगों ने उसे साहब के बुलाने की बात कहकर साथ ले लिया। जब वह उसके साथ चल दिया तो उक्त दोनों लोग उसे बिरधा चौकी लेकर पहुंचे। यहां एसओजी पुलिस मौजूद थी। जिन्होंने चोरी की बात कबूलने के लिए मारपीट करते हुये टार्चर किया। आरोप है कि उसकी जेब से 700 रुपये भी निकाल लिये। पीड़ित ने राज्यमंत्री से मामले की जांच कराते हुये कार्यवाही किये जाने की गुहार लगायी।
जुआ-सट्टा कारोबारियों को मिल रहा संरक्षण
वर्तमान में चल रहे आईपीएल मैच को लेकर जनपद के कई इलाकों में सट्टा का बाजार गर्म है। शहर की कई गलियां ऐसी भी हैं, जहां प्रत्येक गेंद, शॉट और खिलाडिय़ों पर सट्टा लगाया जा रहा है। ऐसा भी नहीं है कि जगह-जगह जम रहे सट्टा के फड़ों की जानकारी पुलिस को न हो। पुराने ठिकानों से लेकर कुछ नये ठिकाने भी सटोरियों द्वारा शुरू किये गये हैं। लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से मिल रहे संरक्षण के चलते यह कारोबार खूब फल-फूल रहा है। तो वहीं जुआरियों के फड़ भी गली-मोहल्लों में देखे जा सकते हैं।

✍️अमित लखेरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here