Home Hindi ललितपुरः हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति ने किया एडीआर केन्द्र का प्रतिमान ई-लोकार्पण

ललितपुरः हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति ने किया एडीआर केन्द्र का प्रतिमान ई-लोकार्पण

110
0
SHARE

ललितपुर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के प्रभारी सचिव डा.सुनील कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि जनपद न्यायालय प्रांगण में नवनिर्मित वैकल्पिक विवाद समाधान एडीआर केंद्र का प्रतिमान ई-लोकार्पण न्यायमूर्ति गोविंद माथुर मुख्य न्यायाधीश उच्च न्यायालय इलाहाबाद जो कि मुख्य संरक्षक राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण उत्तर प्रदेश है के कर कमलों द्वारा किया गया। जनपद न्यायाधीश मोहम्मद रियाज सुबह से ही नवनिर्मित एडीआर बिल्डिंग का मुआयना करते रहे एवं हर बारीकी से ई-लोकार्पण समारोह को सफल बनाने की दिशा में प्रयासरत दिखे। कानपुर नगर ललितपुर एवं महोबा जनपद के एडीआर भवनों के संयुक्त रूप से हुए इस ई-लोकार्पण समारोह में बोलते हुए सर्वप्रथम न्यायमूर्ति रवि नाथ तिलहरी प्रशासनिक न्यायाधीश सत्र संभाग महोबा ने कहा कि नई एडीआर बिल्डिंग से वैवाहिक पारिवारिक एवं कमर्शियल मामलों को सुलह समझौते द्वारा निस्तारित किए जाने में आसानी हो जाएगी। न्यायमूर्ति शेखर कुमार यादव प्रशासनिक न्यायाधीश सत्र संभाग ललितपुर ने बताया कि लोक अदालत विवादों को समझौते के माध्यम से सुलझाने के लिए एक वैकल्पिक मंच होता है एवं महिलाओं बालकों विचारहीन बंदियों, युवाओं एवं समाज के विभिन्न निर्बल निर्धन तथा वंचित व्यक्तियों को सक्षम व निशुल्क कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए एडीआर भवन अदालतों के लिए एक आवश्यक मददगार अंग बन गए हैं। न्यायमूर्ति सूर्य प्रकाश केसरवानी प्रशासनिक न्यायाधीश सत्र संभाग कानपुर नगर ने अपने संबोधन में कथन किया कि वैकल्पिक विवाद समाधान केंद्र या एडीआर भवन एक ऐसा प्लेटफार्म होता है जो कि एक ऐसा समाधान दे देता है जहां दोनों ही पक्ष संतुष्ट हो जाते हैं। आमजन को समझाने के लिए उनके विवादों को सुलह के माध्यम से निपटाने के लिए एडीआर भवनों का निर्माण अति आवश्यक हो गया था । न्यायमूर्ति संजय यादव वरिष्ठ न्यायाधीश उच्च न्यायालय इलाहाबाद कार्यपालक अध्यक्ष राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण उत्तर प्रदेश ने भी एडीआर भवनों के माध्यम से विवादों को फास्ट्रेक करने पर बल देते हुए वैवाहिक मामलों पारिवारिक एवं ज्वाइंट वेंचर जैसे पार्टनरशिप मामलों में विवादों को निस्तारित करने में तेजी की बात कही गई ।अंत में न्यायमूर्ति गोविंद माथुर मुख्य न्यायाधीश उच्च न्यायालय इलाहाबाद द्वारा अपने आशीर्वचन देते हुए यह कथन किया गया कि एडीआर भवनों के निर्माण से प्राथमिक स्तर पर विवादों का त्वरित निस्तारण संभव हो पाएगा एवं आम जनता को पारिवारिक एवं वैवाहिक मामलों के निस्तारण में भी तेजी देखने को मिलेगी। कार्यक्रम के अंत में जनपद न्यायाधीश कानपुर नगर आर पी सिंह द्वारा कानपुर नगर हरवीर सिंह जिला जज महोबा एवं ललितपुर के जनपद न्यायाधीशगण की ओर से धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

केतन दुबे- ब्यूरो रिपोर्ट
📞9889199324

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here