Home Hindi ललितपुरः देश में पन्द्रह फीसदी न्यायमूर्ति कोरोना संक्रमित

ललितपुरः देश में पन्द्रह फीसदी न्यायमूर्ति कोरोना संक्रमित

228
0
SHARE

कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहा न्यायिक सिस्टम
देश के मुख्य न्यायाधीश ने दी जानकारी
ललितपुर। देश के मुख्य न्यायाधीश एन.वी.रमना ने जानकारी दी कि पिछले साल अप्रैल से लेकर अब तक सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के कई न्यायमूर्ति कोरोना की चपेट में आ गए हैं। उन्होने जानकारी दी कि तीन स्तरीय न्यायिक सिस्टम संकट के दौर में भी अपना मुख्य काम न्याय देने पर जोर दे रहा है। उन्होंने जानकारी दी कि पिछले साल अप्रैल से लेकर अबतक 2,768 न्यायिक अधिकारी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं और जबकि कामकाज करने वाले कुल लोगों की तादाद 18000 है। इसके अलावा कोरोना वायरस ने देश के सभी हाईकोर्ट के 106 जजों को भी संक्रमित कर दिया है। देश में हाईकोर्ट के जजों की संख्या 660 है, इसका मतलब यह हुआ कि कोरोना वायरस से अबतक हाईकोर्ट के 15 फीसदी न्यायमूर्ति संक्रमित हो चुके हैं। यही नहीं कोरोना वायरस ने देश के उच्चतम न्यायालय के न्यायधीशों को भी नहीं छोड़ा है। पिछले एक साल के अंतराल में सुप्रीम कोर्ट के दस जज कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। मुख्य न्यायाधीश एन.वी.रमना ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के दस जजों के संक्रमित होने के बाद उच्चतम न्यायालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अहम मुद्दों पर सुनवाई जारी है। इसके अलावा उन्होंने जानकारी दी कि कोरोना की वजह से हमारे तीन अधिकारियों का निधन हो गया है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के प्रभारी सचिव डा. सुनील कुमार सिंह ने पुष्टि की कि हमने उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा के सर्वश्रेष्ठ अधिकारियों में से एक अमित कुमार सिंह मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी एटा को आज सुबह लगभग 2 बजे खो दिया। न्यायाधीश अमित करोना संक्रमण के कारण मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती थे जहां उनकी मृत्यु हुई वह नेगेटिव तो हो गए थे लेकिन उनके फेफड़े इतने ज्यादा गंभीर रूप से संक्रमित हो गए थे कि उनको डॉक्टर बचा नहीं पाए। देश के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना ने जानकारी दी है कि पिछले साल अप्रैल से लेकर अबतक सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के कई न्यायमूर्ति कोरोना की चपेट में आ गए हैं। उन्होने जानकारी दी कि तीन स्तरीय न्यायिक सिस्टम संकट के दौर में भी अपना मुख्य काम न्याय देने पर जोर दे रहा है। उन्होंने जानकारी भी दी कि पिछले साल अप्रैल से लेकर अबतक 2,768 न्यायिक अधिकारी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं और जबकि कामकाज करने वाले कुल लोगों की तादाद 18000 है। इसके अलावा कोरोना वायरस ने देश के सभी हाईकोर्ट के 106 जजों को भी संक्रमित कर दिया है। देश में हाईकोर्ट के जजों की संख्या 660 है, इसका मतलब यह हुआ कि कोरोना वायरस से अबतक हाईकोर्ट के 15 फीसदी न्यायमूर्ति संक्रमित हो चुके हैं। यही नहीं कोरोना वायरस ने देश के उच्चतम न्यायालय के न्यायधीशों को भी नहीं छोड़ा है। पिछले एक साल के अंतराल में सुप्रीम कोर्ट के दस जज कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। मुख्य न्यायाधीश एन.वी.रमना ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के दस जजों के संक्रमित होने के बाद उच्चतम न्यायालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अहम मुद्दों पर सुनवाई जारी है। इसके अलावा उन्होंने जानकारी दी कि कोरोना की वजह से हमारे तीन अधिकारियों का निधन हो गया है।

केतन दुबे- ब्यूरो रिपोर्ट
📞9889199324

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here