ललितपुर: जे.एस.वाई. भुगतान में दायित्व निर्वाह्न न करने वालों पर कार्यवाही करें- डीएम

183
0
SHARE

शासी निकाय की बैठक में डीएम ने अधिकारियों को दिये निर्देश
ललितपुर। जिलाधिकारी अन्नावि दिनेशकुमार की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की शासी निकाय की बैठक कलैक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गयी। बैठक में सर्वप्रथम मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने पिछली बैठक में लिये गए निर्णयों की अनुपालन आख्या प्रस्तुत की गई। जननी सुरक्षा योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत 20 दिसम्बर तक कुल 17242 प्रसव किये गए थे, जिसके सापेक्ष 20 दिसम्बर तक कुल 15402 लाभार्थियों का भुगतान किया जा चुका है, जिससे इस माह में लाभार्थियों का भुगतान का प्रतिशत 89.33 तथा आशाओं का भुगतान प्रतिशत 93.00 रहा। बताया गया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत 31 मार्च 2020 तक 2234 अवशेष लाभार्थियों के सापेक्ष 31 दिसम्बर 2020 तक 1572 लाभार्थियों को भुगतान कर दिया गया है तथा 662 लाभार्थी शेष हैं। इस प्रकार भुगतान की प्रगति 70.37 प्रतिशत है। इस पर जिलाधिकारी ने समस्त एमओआईसी को निर्देशित करते हुए कहा कि जे.एस.वाई.के भुगतान में अपने दायित्वों की पूर्ति न करने वाले कर्मचारियों के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही कर आख्या प्रेषित करें। जननी सुरक्षा योजना एफ.आर.यू. के तहत जनदप में दो एफ.आर.यू. क्रियाशील हैं, जहां सामान्य प्रसव के अतिरिक्त सिजेरियन प्रसवों की सुविधा उपलब्ध है। साथ ही जनपद में 11 एल-2 इकाईयां एवं 93 मान्यता प्राप्त उपकेन्द्र हैं, जिनमें संस्थागत प्रसव की सुविधा उपलब्ध है। जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम के तहत जनपद की स्वास्थ्य इकाईयों पर 12629 प्रसव किये गए, साथ ही निशुल्क परिवहन व्यवस्था 102 व 108 गाडिय़ों से उपलब्ध करायी जाती है। नि:शुल्क भोजन व्यवस्था, नि:शुल्क उपचार, नि:शुल्क खून व पेशाब की जांचे, ब्लॉक स्तरीय चिकित्सा इकाईयों पर, अल्ट्रासाउंड सुविधा तथा नि:शुल्क ब्लड ट्रांसफ्यूजन की सुविधा जिला महिला चिकित्सालय में उपलब्ध करायी जा रही है। पोषण पुनर्वास केन्द्रों की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जनपद के सभी ब्लॉक स्तरीय चिकित्सालयों में 06 शय्या एवं जिला चिकित्सालय पुरुष में 10 शय्या एन.आर.सी. स्थापित एवं क्रियाशील हैं। यह भी बताया गया कि जनपद में 102 की 16, 108 की 22 एम्बुलेंस संचालित हैं, जिनमें समस्त उपकरण क्रियाशील हैं। इस पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी एम्बुलेंस रोगी तक समय से पहुचाने हेतु एम्बुलेंस सेवाएं दुरुस्त रखें। आई.डी.एस.पी. कार्यक्रम के तहत कोविड मामलों की भी समीक्षा की गई, जिसमें बताया गया कि कोविड-19 के सर्वेलेंस एवं रोकथाम का कार्य किया जा रहा है। बैठक में बताया गया कि एन.सी.डी. के तीनों कार्यक्रमों के संविदाकर्मियों का वित्तीय वर्ष 2020-21 माह दिसम्बर 2020 के मानदेय का भुगतान कर दिया गया है। इसके साथ ही बैठक में नेशनल प्रोग्राम फॉर हेल्थ केयर ऑफ द एल्डर्ली कार्यक्रम एवं सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग प्रोग्राम पर भी चर्चा की गई। बैठक में यह भी बताया गा कि एन.टी.सी.पी. कार्यक्रम के तहत जनपद के ग्रामीण एवं अन्य क्षेत्रों में तम्बाकू के दुष्प्रभावों से बचाव हेतु एफजीडी कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। जिला चिकित्सालय में माह दिसम्बर 2020 में तम्बाकू उत्पाद के सेवन की आदत से ग्रसित 216 पुरुष एवं 152 महिला मरीजों को लाभान्वित किया गया है, जिनमें से 7 लोगों द्वारा तम्बाकू का त्याग किया गया। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत चिन्हित लाभार्थी परिवारों की संख्या 89435 हैं, जिसके सापेक्ष जनपद के चिकित्सालयों में 88937 लाभार्थी उपचारित किये गए हैं। क्वालिटी एश्योरेंस के तहत जनपद ललितपुर में चिकित्सालयों की गुणवत्ता सुधार हेतु माह दिसम्बर 2020 तक किये गए कार्यों के क्रम में कायाकल्प कार्यक्रम के अंतर्गत चिन्हित जिला चिकित्सालय (पुरुष), जिला महिला चिकित्सालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, बार, मड़ावरा एवं महरौनी का पियर असिस्मेंटपूर्ण किया जा चुका है। कायाकल्प अवार्ड योजनान्तर्गत जिला चिकित्सालय पुरुष एवं महिला चिकित्सालय का एक्सटर्नल असिस्मेंट राज्य स्तरीय टीम द्वारा किया गया है। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत जनपद प्रदेश में प्रथम स्थान पर है, जनपद में 26530 लक्ष्य के सापेक्ष 29561 लाभार्थी पोर्टल पर अपलोड कर दिये गए हैं एवं 26802 लाभार्थियों को लाभ मिल चुका है, जो लक्ष्य का 111.2 प्रतिशत है। बैठक के अंत में जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि जनपद में कोई भी प्राईवेट चिकित्सालय बिना पंजीकरण के संचालित नहीं होने चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने अधि.अभि.ग्रामीण अभियंत्रण सेवा को निर्देश दिये कि बायोमेडिकल बेस्ट के निस्तारण हेतु जनपद की सी.एच.सी. पर निर्मित शेडो अधूरा कार्य पूर्ण कर स्वास्थ्य विभाग को एक सप्ताह के भीतर हस्तांतरित कर आख्या उपलब्ध करायें। बैठक में सीडीओ, सीएमओ, सीएमएस, सीएमएस पुरुष, क्षय रोग अधिकारी, प्रतिरक्षण अधिकारी सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य चिकित्साधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

✍️अमित लखेरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here