Monday, September 28, 2020

About Us

हम ठेठ बुंदेलखंडी आएं। हमाई जुबान में व्यंग है। हमाओ बस एकई सिद्धांत है। हम न बोलें काऊ से हम से न बोले कोऊ। मजे लो , मस्त रओ। सब बुंदेली के प्रेमी आओ , अपनी बोली खों आगे बढ़ाएं।